शादीशुदा दीदी ki choot chudai

...From : सैम … hi friends, में sexy सैम आज अपनी एक और नई कहानी लेकर आपके सामने आया हूँ। आज में आप लोगों के लिए एक और कहानी लेकर आया

भाई के लंड पर मम्मी और बहन लट्टू-7
aunti के साथ अंकल ki Gaand मारी Antarvasna
मेरी जिन्दगी ki पहली chudai

From : सैम …

hi friends, में sexy सैम आज अपनी एक और नई कहानी लेकर आपके सामने आया हूँ। आज में आप लोगों के लिए एक और कहानी लेकर आया हूँ। ये कहानी किसी और ki नहीं बल्कि मेरी अपनी है। वो भी मेरी अपनी एक कजिन के साथ किए गये सेक्स ki कहानी। लेकिन इससे पहले कि में अपनी कहानी शुरू करूँ, में आपको उस लड़ki का परिचय करा देता हूँ, जिसके बारे में आज में आपको बताने जा रहा हूँ। जैसा कि मेरे बारे में आप सभी को पता है कि में सैम हूँ, मेरी उम्र 27 साल है, दूसरी तरफ मेरी कजिन जिनका नाम सुमन है, वो मुझसे 5 साल बड़ी है, वो वैसे तो शादीशुदा है, लेकिन देखने पर कभी ऐसा नहीं लगता कि वो शादीशुदा है, वो काफ़ी सुंदर और स्मार्ट लड़ki है। आज में जो कहानी सुनाने जा रहा हूँ, वो कहानी आज से 7 महीने पहले ki है। तब उनki नयी-नयी शादी हुई थी, उस दिन मेरा एक Dost अपने किसी काम से शहर आया था। अब में पूरे दिन उसके साथ शहर में था और शाम को उसे वापस जाना था।

फिर में उसको स्टेशन छोड़कर वापस जब अपने रूम पर आया तो मैंने जो देखा उसे देखकर तो मेरी जैसे दुनियां ही बदल गयी। में फर्स्ट फ्लोर पर रहता था। फिर जब में नीचे सीड़ियों के दरवाजे को बंद करके अपने फ्लोर पर आया तो मैंने देखा कि मेरे रूम ki सारी लाईट बंद थी। फिर तब मैंने सोचा कि शायद दीदी सो रही होगी, तो में धीरे-धीरे अंदर गया। लेकिन जब मैंने अंदर दाखिल होने के बाद जो देखा तो पाया कि दीदी जगी हुई थी। अब वो मेरे रूम में बेड पर लेटी हुई थी और टी.वी पर ब्लू मूवी देख रही थी। फिर जब मैंने लाईट जलाई तो पाया कि वो उस वक्त सिर्फ़ ब्रा और पैंटी में थी। फिर जब दीदी ने मुझे देखा तो उसने अपने आपको ढकने के लिए जैसे ही चादर को खींचा, तो मैंने उस चादर को खींच लिया।

अब दीदी ने अपने बगल में सरसों के तेल ki एक बोतल भी रखी थी। अब इतना सब कुछ देखकर मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया था। अब मेरे लिए बर्दाश्त करना मुश्किल हो गया था तो तब मैंने तुरंत उस कमरे के दरवाजे को बंद किया और अपने कपड़े उतारने लगा। अब दीदी भी सब समझ गयी थी कि अब में उनके लिए एक भैया से अब एक सैयां बनने जा रहा था और वो मेरे लिए दीदी से बीवी बनने जा रही थी। अब वो भी मेरे लंड को देखने के लिए जैसे बैचेन हो रही थी। फिर मैंने एक-एक करके अपने सारे कपड़ो को उतार दिया और फिर उसके बाद में उनके बगल में बैठ गया और उनki पैंटी को उतार दिया। फिर इसके बाद जब मैंने उनki choot को देखा तो मुझे ऐसा लगा कि मेरे लंड से पानी टपक जाएगा, क्योंकि अब तक मैंने इतनी सुंदर choot कभी नहीं देखी थी।

में वैसे तो उनसे पहले 4 लड़कियों ki chudai कर चुका था, जिसki चर्चा में अपनी पहले ki कहानियों में कर चुका हूँ, लेकिन इतनी सुंदर choot को देखकर शायद ही कोई आदमी बिना chudai किए रहेगा। फिर मैंने अपने लंड पर थोड़ा सा तेल लगाया और जब ध्यान से देखा तो पाया कि दीदी ने अपनी choot पर तेल लगा रखा था। फिर मैंने देखा कि अब दीदी chudai के लिए पूरी तरह से तैयार थी। फिर मैंने भी देर करना उचित नहीं समझा और अपने लंड को उनki choot पर सटाया तो तब दीदी ने बिना कहे ही अपने दोनों हाथों से अपनी choot को फैला दिया। अब इतना देखकर तो मेरा तो जैसे जोश ही दुगुना हो गया था। फिर मैंने अपने लंड को उनके छेद पर रखा और अपनी कमर को धीरे-धीरे पुश किया तो उसने आअहह ki आवाज निकाली। फिर तब मैंने देखा कि मेरे लंड का टोपा उनki choot के छेद में प्रवेश कर चुका था। फिर में अपनी कमर को एक ज़ोर से झटके के साथ हिलाने के बाद धीरे-धीरे हिलाने लगा। तो वो उई हाईईईई, ऊहह, नहीं ki आवाजे निकालने लगी। फिर तब मैंने कहा कि पहुँच गया है, तो फिर वो बड़ी मुश्किल से आवाज निकाल पाई आहह, आहह, ऊहह।

अब मैंने अपनी कमर को हिलाना शुरू कर दिया था। फिर मैंने टी.वी बंद कर दिया और बोला कि अब तक तो टी.वी में देख रही थी, अब में आपके साथ प्रेक्टिकल कर रहा हूँ और ऐसा कहते हुए मैंने फिर से अपनी कमर को ज़ोर ज़ोर से 2-3 झटको के साथ हिलाया। तो वो उउऊईई, आहह, नहीं, हाईईई, में मर गयी, ऊहह नहीं ki आवाज के साथ चीख पड़ी। फिर तब मैंने उनसे पूछा कि क्या जीजाजी आपके साथ सेक्स नहीं करते है? तो तब वो बोली कि करते तो है, लेकिन इतना मज़ा नहीं आता है। तो तब मैंने पूछा कि क्यों? तो वो बोली कि उनका लंड इतना बड़ा नहीं है। तो तब मैंने पूछा कि कितना बड़ा है? तो वो बोली कि 5 इंच का है। अब में समझ गया था कि बात सही है एक उनका लंड 5 इंच का और दूसरी तरफ मेरा लंड 7 इंच का है तो दीदी को मज़ा तो आना ही था। friends ये कहानी आप चोदन पर पड़ रहे है।

फिर मैंने दीदी ki दोनों चूचीयों को बारी-बारी से दबाया। तो तब उनके दोनों पैर जो कि बिल्कुल ही टाईट थे तो दीदी ने थोड़ा सा ढीला किया। फिर तब मैंने उनके दोनों पैरो को फोल्ड करने के लिए बोला तो दीदी ने वैसा ही किया। फिर जब मैंने अपने लंड को देखा तो पाया कि मेरा लंड अभी आधा ही उनki choot में गया था। फिर तब मैंने एक ज़ोर से धक्का मारा तो उनके मुँह से फिर से हाईईई, में मर गयी, ऊहह, नहीं ki आवाज निकल पड़ी और अब उनके दोनों पैर फिर से टाईट हो गये थे। अब मैंने उनके दोनों पैरो को पकड़कर फोल्ड करके उनki जाँघो को फैला दिया था। अब में अपने लंड को उनki choot में आते जाते देख रहा था। फिर कुछ देर तक तो में वैसे ही अपनी कमर को हिलाता रहा। फिर तभी मेरे अंदर ना जाने कहाँ से अचानक जोश आया? और फिर मैंने अपने लंड को पूरा उनki choot में डालने के लिए एक ज़ोर से झटका मारा। तो वो उई, आअहह, नहीं, हाए में मर गयी, ओह नहीं बोले जा रही थी। अब वो ना सिर्फ़ पूरी तरह से कांप गयी थी बल्कि झटपटाने लगी थी।

अब मेरा लंड उनki choot में पूरा चला गया था, लेकिन उनki choot भी फट गयी थी। अब वो मेरे लंड को बाहर निकालने ki हर नाकाम कोशिश कर रही थी। फिर तब मैंने उनसे बोला कि बस अब आपको मज़ा आने वाला है, थोड़ी देर और रुक जाइए और फिर इस तरह से मैंने उनके दोनों हाथों को पकड़ लिया और अपनी कमर को हिलाता रहा। फिर थोड़ी देर के बाद मैंने देखा कि अब वो भी शांत होने लगी थी। अब में समझ गया था कि अब उनको भी मज़ा आने लगा था। अब में उनki दोनों चूचीयों को मसलने लगा था और अपनी कमर को ज़ोर-ज़ोर से हिलाने लगा था। अब वो भी मस्ती में अजीब ही मस्तानी आवाज निकालकर मेरे जोश को और बढ़ाने ki कोशिश करने लगी थी। फिर कुछ देर के बाद जब मैंने महसूस किया कि मेरा वीर्य उनki choot में गिरने वाला है तो तब मैंने दीदी के होंठो को चूसना शुरू कर दिया।

अब दीदी भी मेरा भरपूर साथ देने लगी थी। फिर कुछ देर के बाद मेरा पूरा वीर्य दीदी ki choot में ही गिर गया। अब हम दोनों एक दूसरे ki बाँहों में जैसे ढेर हो गये थे। अब में उनके ऊपर ढेर हो गया था। फिर कुछ देर के बाद में बैठा हुआ और अपने लंड को बाहर निकाला और दीदी ki choot को देखकर बोला कि क्या मस्त जिस्म पाया है आपने? आज आपने मुझे खुश कर दिया। फिर तब दीदी बोली कि तुमने भी मुझे खुश कर दिया, मुझे लगता है कि सही मायने में आज ही मेरी सुहागरात है। फिर में उठकर अपने कपड़े पहनकर दूसरे कमरे में चला गया और बेड पर जाकर सो गया। फिर सुबह जब में जागा तो मैंने देखा कि दीदी उठकर नहाकर ठीक हो चुki थी। फिर जब में बाथरूम से बाहर आया, तो तब वो मुस्कुराकर बोली कि अच्छी लगी रात ki chudai? और फिर कुछ देर के बाद जीजाजी उनको लेने के लिए आ गये। अब दीदी तैयार हो चुki थी और फिर वो दोनों उसी दिन चले गये। अब दीदी जब भी मेरे पास आती है, तो हम दोनों chudai का भरपूर आनंद लेते है और खूब मजा करते है ।।

धन्यवाद …

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0